समर्थक

सोमवार, 18 अप्रैल 2016

मेरी दुनिया

Image result for clip art sapno ki duniya
अपनी सपनीली दुनिया की 
 मैं अकेली परी हूँ


यहाँ फूल मुस्काते 
हैं पेड़ खिलखिलाते 

हर एक पहाड़ 
 हैं वादियों में गीत गाते

हवाएँ  जब चलती 
हैं ठुमककर  लहराती 

प्रकृति मगन हो 
शांति  गुनगुनाती 

आसमां  का विस्तार  
बाँहों में नाप पाती 

पिता सा वृहद् रूप 
हूँ उसमें  ही पाती 

धरती की गोदी में 
झूलती है ये हस्ती 

घूमती फिरती हूँ 
निडर हो मैं  हँसती 

भौरें संदेशा  सुनाते 
पंख तितलियों के 
मुझको लुभाते 

जब भी मैं गुमसुम हूँ 
बैठी पकड़े किनारा 

छेड़ना मुझे कभी  ना
वहीँ होता अस्तित्व सारा 

उस दुनिया की सैर से
जब आती यहाँ पर

लगता है यह संसार 
मुझको प्यारा  प्यारा 







चित्र साभार गूगल